बड़ी खबर: नगरोटा एनकाउंटर में मारे गए सभी आतंकवादियों को दी गई थी कड़ी कमांडो ट्रेनिंग, अंधेरी रात में पाकिस्तान से भारत में आए थे आंतकवादी

बड़ी खबर: नगरोटा एनकाउंटर में मारे गए सभी आतंकवादियों को दी गई थी कड़ी कमांडो ट्रेनिंग

जम्मू कश्मीर में सुरक्षा बलों की मुस्तैदी के चलते हुए एक और बड़े आतंकी हमले को टाल दिया गया. 19 नवंबर को नगरोटा में यह हमला हुआ था. जिसके अंदर 4 आतंकवादियों को मार गिराया था इस मामले की विस्तृत जांच के आदेश दे दिए गए हैं और यह खुलासा भी हुआ है.

इसमें 2016 में जो पठानकोट में हमला हुआ था. उसके मुख्य आरोपी जैश-ए-मोहम्मद के ऑपरेशनल कमांडर कासिम जान भी शामिल रहा है. कासिम भारत में जैसे आतंकवादियों के मुख्य लांच कमांडरों में से एक रहा है, और मैं पूरे दक्षिण कमांडर के अंडरग्राउंड लड़ाकों के साथ भी उसके संबंध माने जा रहे हैं वह संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आंत की मुक्ति असगर को भी सीधे से सपोर्ट कर रहा है.

भारत के आतंकवाद विरोधी अधिकारियों ने बताया है कि अफगानिस्तान से अमेरिका की सेनाओं की वापसी बुलाने और तालिबान के पुनरुत्थान के साथ जम्मू कश्मीर सीमा पर हाई एक्टिव रहता है. 14 के करीब विशेष रूप से विकसित आंतकवादी गुजरांवाला से भारत में घुसपैठ करने की फिराक में है.

Drug case: मशहूर कॉमेडियन भारती सिंह के घर पर NCB की रेड पड़ी, समन हुआ जारी

बड़ी खबर: नगरोटा एनकाउंटर में मारे गए सभी आतंकवादियों को दी गई थी कड़ी कमांडो ट्रेनिंग

एक सुरक्षा अधिकारी ने यह कहा है कि करीब 200 आतंकवादी भारत में घुसपैठ करने के लिए नियंत्रण रेखा एलओसी के लांच पैड पर इंतजार कर रहे हैं. हम अल्बर्ट समूह के पुनरुत्थान के साथ-साथ एक औरत की मौत मोर्चा रस करे मोहित को एक्टिव होता हुआ देख रहे हैं. जिसका प्रमुख हिंदुत्व मलिक है. दूसरा पाकिस्तान आधारित लश्कर-ए-तैयबा के समूह है जो खबर पख्तून मां के जंगल बांग्ला कैंप में 23 आतंकवादियों को प्रशिक्षण दे रहा है.

अन्य स्रोतों से मिली जानकारी के अनुसार चार जैसे तोबा के आंतकी हमला बार को कमांडो युद्ध के लिए प्रेषित किया गया है. वह शकर गांव में सांबा सीमा पर जांच की शिविर से लगभग 30 किमी से 40 किमी तक पैदल चले इसके बाद जट्ट वाला स्थित पिकअप पॉइंट पर पहुंचे जहां पर इलाका सांबा से कठुआ तक किलोमीटर का भी इन्होंने इंतजाम किया. इसका मतलब यह कि हमलावर अंधेरी रात में पिकअप प्वाइंट तक पहुंचे थे, और जम्मू कश्मीर की ओर चल गए.

भारत में सबसे ज्यादा डाउनलोड की गई हैं- ये 5 एप्लीकेशन तुरंत कर ले डाउनलोड

एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह भी कहा है कि आंतकी  विभिन्न मार्गों से 2:30 से 3:00 पैदल चलकर यह दूरी तय किए. उन्होंने कहा अंतरराष्ट्रीय सीमा से पिक अप प्वाइंट लगभग 8 से 9 किलोमीटर दूरी पर है, और जैसे शिविर जाट वालों से 30 किमी दूरी पर है. सांबा सेक्टर में मावा गांव के मध्य में है. जो रामगढ़ और हीरानगर सेक्टर के बीच में है. नाथा नाले के पास कई कच्चे ट्रिक है. जो पिक अप प्वाइंट और अंतरराष्ट्रीय सीमा तक पहुंचते हैं. रात के 2:30 से 3:00 के बीच एक ट्रक जे के एल 105 पर सवार होकर आंतकवादी गतिविधि को अंजाम तक पहुंचाने के लिए पहुंचे थे. रात के 3:44 पर जम्मू कश्मीर के रोल टोल प्लाजा के पार करते हुए देखे गए इस पर ट्रक नरवा बाईपास होते हुए कश्मीर की ओर बढ़ा गया लगभग 3:45 बजे सुरक्षाबलों ने ट्रक टोल प्लाजा के पास पकड़ा.

PM मोदी की ‘फुलप्रूफ नीति’, जानिए Corona Vaccine आएगी तो आपको कैसे मिलेगी?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here